हैडलाइन

वायरल सावला ने MCOCA को मुंबई हाइ कोर्ट मे दी चुनौती


कोल्हापुर शहर की पुलिस महाराष्ट्र और गुजरात में मटका माफिया के खिलाफ कार्रवाई के कारण एक बार बहुत चर्चा में है। हाल ही में गुजरात और महाराष्ट्र के बीच मटका माफिया सांठ-गांठ की दरार ने पप्पू सावला के चर्चित बेटे की गिरफ्तारी के बाद अब नया विवाद खड़ा कर दिया, जिसे हाल ही में महाराष्ट्र के कोल्हापुर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उतना ही नहीं कोल्हापुर पुलिस ने आरोपी सावला पर MCOCA लगाया हैं।

अब सावले  परिवार ने कोल्हापुर पुलिस पर अपनी शक्ति का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया। उन्होंने MCOCA को चुनौती देने की योजना बनाई। जिसके तहत कोल्हापुर पुलिस द्वारा विरल सावला को गिरफ्तार किया गया।

नाम न छापने की शर्त पर उनके एक पारिवारिक मित्र ने कहा, “यह विरल सावला का अवैध गिरफतारी हैं। मटका व्यवसाय से उनका कोई संबंध नहीं है। वह इस घटना को लेकर कोल्हापुर जिस प्रोफेशनल बिल्डर के साथ घटना हुई वह किसी भी तरह का नोटिस या वारंट दिए बिना ही कोल्हापुर पुलिस ने मुंबई में आकर उनके दोस्त के कार्यालय से उसे गिरफ्तार कर लिया। जो पूरी तरह से गलत है। पुलिस ने उस पर MCOCA के तहत मामला दर्ज किया जो उस पर लागू नहीं होती है, क्योंकि वह कोई  गैंगस्टर नहीं है, हम MCOCA के खिलाफ अदालत में अपील करेंगे। “

करीबी पारिवारिक मित्र ने आगे आरोप लगाया कि, सावला परिवार पहले से ही अंडरवर्ल्ड के दबाव में रह रहा है, इसलिए कई बार उन्हें अंतरराष्ट्रीय नंबरों से एक्सटॉर्शन कॉल मिले हैं। इस बारे में सावला परिवार से  पुलिस में शिकायत भी दर्ज की लेकिन मुंबई पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की हैं। हमें न्यायपालिका पर भरोसा है और हमें उम्मीद है कि हमें न्याय मिलेगा।

यह हैं पूरा मामला

कोल्हापुर ने मई 2019 में मटका माफिया के खिलाफ अभियान चलाया गया। महाराष्ट्र और गुज़रात के कच्छ इलाके में पुलिस ने छापेमारी की। पोलीस ने कुख्यात बुकी जयेश हीरनजी सावला उर्फ ​​भुज को गिरफ्तार किया।

कोल्हापुर पुलिस ने कुख्यात सट्टेबाज सलीम मुल्ला और उसकी पत्नी शमा मुल्ला (कोल्हापुर शहर के पार्षद) और 39 सटोरियों को गिरफ्तार किया, इस छापेमारी के दौरान सलीम मुल्ला के गुंडो  ने पुलिस टीम पर हमला किया, इस घटना के बाद पुलिस ने अपने अभियान को आक्रामक तरीके से शुरू किया और इसके बाद पुलिस ने विरल सावला और जितेंद्र को गिरफ्तार कर लिया।

सावला परिवार ने दावा किया कि विरल सावला निर्दोष है, MCOCA को चुनौती देंगे।

महत्वपूर्ण बिंदु :

अंडरवर्ल्ड की धमकी के चलते परिवार का जीना मुहाल

मुल्ला के साथ किसी भी कनेक्शन के साथ मकोका के तहत वायरल की गिरफ्तारी

एक साल से झूठी खबर है कि वह mcoca में जाने वाला है

ट्यूब पर vedio एक साल से थे और उनके प्रतिद्वंद्वियों मनोज सिंह पंकज हैंगर और अशोक पोवार ने नियोजन किया था

दस्तावेजों में गलत उल्लेख करते हुए कि उन्हें अपने साइट कार्यालय से उठाया गया था उन्हें दलालों के कार्यालय से उनके कार्यालय में ले जाया गया था। आरोप हैं कि

कोई कागजात नहीं दिखाए गए थे और न ही पूछने पर उन्होंने स्थानीय पुलिस स्टेशन से मेमो छोड़ दिया था।

उन्होंने कल्याण मटका पर कोई गिरफ्तारी नहीं की, जबकि रिमांड में उनके नाम सलीम मुल्ला के गलत या मटका या विरल सावला के बारे में मामला क्लूलेस दिश

विरल सावला के बारे में झूठा बयान देने वाले डीएसपी ने सांवला गिरोह के नाम से एक गिरोह चलाने का काम किया


हिन्द ब्रिगेड न्यूज़